GHAZALDHARA (ChhandShastra & TaalShastra of Ghazal) with Article of Mukhya & Gaun Padyabhaar – Uday Shah = January-2016 (770 kb)

   ‘ग़ज़लधारा पुस्तक हिन्दी-गुजराती जैसी लिपिवाली भाषा के लिए ग़ज़ल का छंदशास्त्र है जो ग़ज़लकारों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी तथा ग़ज़ल के छंद और संगीत के ताल के समन्वय की चर्चा ग़ज़ल का तालशास्त्र है जो गायक-संगीतकारों को उपयोगी सिद्ध होगी ऐसी मुझे श्रद्धा है। उर्दू में भी इस पद्धति से छंद-रचना करने पर कोई अड़चन नहीं होगी ऐसी मुझे श्रद्धा है। इस तरह ग़ज़लधारा पुस्तक ग़ज़लकार, संगीतकार और गायक तीनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी। इस पुस्तक में ग़ज़ल के ३० से अधिक छंदों की छंद-रचना को पद्यभार आधारित पद्धति से समझा कर १२० से अधिक फ़िल्मी और ग़ैरफ़िल्मी रचना के अलग-अलग ताल में उदाहरण दिये गए हैं।

Download File
All copyrights reserved to Uday Shah.